वर्षा शामकुले जी का जीवन परिचय।

वर्षा शामकुले – Vice President of Nationalist youth Congress Maharashtra State.

निजी जीवन

पूरा नाम: वर्षा गणपतराव शामकुले
जन्मतिथि: 4/08/1976
जन्म स्थान: नागबीड़ ( जिल्हा चंद्रपुर ).
पार्टी का नाम: राष्ट्रवादी कॉंग्रेस पार्टी.

शिक्षा:
●पहली से चौथी ( संगम प्राथमिक स्कूल.) लष्करीबाग नागपुर. ● पाचवीं से बारहवीं SCS गर्ल्स हाइ स्कुल.
●स्नातक स्तर की पढ़ाई: वसंतराव नाईक शासकीय कला और सामाजिक संस्थान, नागपुर (मोरिस कॉलेज, नागपुर.)
● स्नातकोत्तर पढ़ाई: अर्थशास्त्र में एम. ए. (M. A. In Economics.)
● डॉ. आंबेडकर की विचारधारों पर एम. ए. ( M. A. In Ambedkars thoughts.) (PWS कला और वाणिज्य महाविद्यालय.)
● एम. एस. डब्ल्यू. (M.S.W.) ( कुम्भलकर सामाजिक कार्य महाविद्यालय.)
● नागपुर विद्यापीठ में फ्रेंच भाषाके प्रमाणित पाठ्यक्रम का अध्ययन.

व्यवसाय: सामाजिक कार्यकर्ती, राजनीतिज्ञ.
पिता का नाम: गणपतराव शामकुले.
माता का नाम: शकंतुला गणपतराव शामकुले.

वर्षा गणपतराव शामकुले का जन्म चंद्रपुर जिल्हा में स्थित नागभीड़ नामक नगर में हुआ है. उनके पिता श्री. गणपतराव शामकुले और उनकी माता श्रीमती. शंकुन्तला शामकुले है. वर्षाजी ने अपनी प्राथमिक शिक्षा (पहली से चौथी तक) संगम प्राथमिक विद्यालय, लष्करीबाग, नागपुर यहाँसे की है. अपनी उच्च माध्यमिक शिक्षा के लिए उन्होंने एस. सीं. एस. गर्ल्स हाई स्कूल को चुना. माध्यमिक स्कुल की पढ़ाई ख़त्म करके अधिक शिक्षण के हेतु उन्होंने नागपुर के प्रतिष्ठित वसंतराव नाईक शासकीय कला और सामाजिक विज्ञान (मोरिस नामक कॉलेज )में अपनी स्नातक तक की पढ़ाई प्राप्त की. इसी के बाद अपने उच्चशिक्षण हेतु उन्होंने मोरिस कॉलेज से ही अर्थशास्त्र में अपनी स्नातकोत्तर पढ़ाई (M.A.) का अध्ययन किया.

वर्षाजी शामकुलेने अपने निजी जीवन पर डॉ. बाबासाहब अंबेडकर के विचारोंका का प्रभाव देखते अपने आगामी संशोधन एवं अध्ययन के लिए डॉ. अम्बेडकर की विचारधाराओं का जिक्र किया. उन्हीके दिखाए हुए रास्तों पर चलनेका मनसूबा रखते हुए और उन्होंने दिखाए हुए सपनोंको साकार करने हेतु वर्षाजीने अगली पढ़ाई का विषय उन्हींकी विचारधारोंको समर्पित किया. इसी विषय में उन्होंने अपना और एक (M. A.) नागपुर स्थित P.W.S. कॉलेज से कम्प्लीट किया.

इस विषय के अनुसार और उनके बचपनसेही सामाजिक घटकों के प्रति ठहरे हुए लगाव के कारण वर्षाजी की समाज की सेवा करने की मनीषा दिन प्रति दिन दृढ़ होती गई. उन्होंने अपने अगले कदम इसी दिशा में उठाये है. नागपुर में स्थित कुम्भलकर सामाजिक संस्थान से अपनी समाजकार्य से सम्बंधित पदविका (M.S.W.) हासिल करना वर्षाजी की इसी मनीषा का निर्देश करता है.

इतना ही नहीं वर्षा जी की विचारधारा और शिक्षणके प्रति आस्था के कारण उनका दृष्टिकोन अधिक विश्वव्यापी होगया. इसी जिज्ञासा को अपने अध्ययन का एक अंग बनाने हेतु, वर्षाजी ने दुनिया में कठिन माने जानेवाली फ्रेंच भाषाके प्रमाणित पाठ्यक्रमका यशस्वी अध्ययन नागपुर विद्यापीठ से किया.

अपने विचार साझा करें.